October 20, 2021

(पूरी हकीकत)

भिलाई में जीपी सिंह के खिलाफ दर्ज FIR को लेकर कोर्ट ने शिकायतकर्ता से मांगा जवाब… 20 लाख रुपए के रिश्वत मांगने का है आरोप

न्यूज सर्च, बिलासपुर – निलंबित एडीजी जीपी सिंह के खिलाफ दो माह पहले एक व्यापारी ने 20 लाख की उगाही का आरोप लगाते हुए जिले में FIR दर्ज कराई थी। इसे लेकर सिंह ने उनके खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई पर रोक के लिए हाईकोर्ट से गुहार लागई है। उन्होंने कोर्ट से भिलाई में दर्ज अपने खिलाफ FIR में अंतरिम राहत कि मांग की है। मामले में सुनवाई करते हुए अदालत ने राज्य सरकार और सिंह के खिलाफ मामला दर्ज करवाने वाले व्यापारी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। अब मामले में 28 सितम्बर को अगली सुनवाई होगी।

जानकारी के मुताबिक निलंबित ADG जीपी सिंह के खिलाफ दुर्ग जिले में दो महीने पहले एक व्यापारी ने एफआईआर दर्ज कराई थी। शिकायत में शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि जीपी सिंह और उनके साथियों ने एक व्यवसायी को फर्जी केस में फंसाने की धमकी दी और उसके बाद उससे 20 लाख रुपए वसूले गए। इसे लेकर स्मृति नगर चौकी में FIR दर्ज की गई है। जांच के बाद मामले को सुपेला थाने में ट्रांसफर किया गया।

रायपुर IG रहते हुए उगाही करने का आरोप

FIR में बताया गया है कि व्यापारी का कुछ लेन-देन का विवाद था,लेकिन साझेदार ने पैसे दबा दिए। उसने यह सब रायपुर IG जीपी सिंह का हाथ होने पर किया, क्योंकि उसके साथ उनकी भी साझेदारी थी। जब पीड़ित ने अपने साझेदार पर दबाव बनाया तो उसे पैसे तो नहीं मिले उल्टा फर्जी केस में फंसा दिया गया। इस दौरान व्यापारी की पत्नी और परिजनों से केस कमजोर करने के एवज में एक करोड़ रुपए की डिमांड की गई और 20 लाख रुपए एडवांस के तौर पर वसूले गए थे।

एसीबी की छापेमारी में मिली थी करोड़ों की संपत्ति

ACB और EOW की संयुक्त टीम ने जीपी सिंह के घार पर छापा मारा था। करीब 64 घंटे तक चली कार्रवाई के दौरान सिंह के पास से 10 करोड़ से अधिक की चल-अचल संपत्ति का खुलासा हुआ है। इस छापे की जद में एडीजी सिंह के करीबी लोग भी आए हैं। ब्लैकमेलिंग और फोन टैपिंग के साथ ही कई तरह की खुफिया जानकारी भी सामने आई हैं।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें