September 27, 2021

(पूरी हकीकत)

धरातल में लोग भटक रहे पानी के लिए और कागजों में हैंडपंप मरम्मत के नाम पर खर्च कर दिए 11 लाख

न्यूज सर्च, मानिकपुर, चित्रकूट (विवेक सिंह)। चित्रकूट जिले भ्रष्टाचार अपने चरम पर है। यहां मानिकपुर ब्लाक क्षेत्र के किहुंनिया गांव के लोगों को पीने के पानी के लिए भटकना पड़ता है। जबकि जिम्मेदार विभाग ने दो साल में यहां कागजों पर छह हैंडपंपों की मरम्मत के लिए 11 लाख रुपये खर्च कर दिए।

किहुंनिया गांव निवासी राजूकोल, अनीस मोहम्मद, दिवाकर त्रिपाठी, अवध राजन, मयंक त्रिपाठी व महेश कुमार आदि ने बताया कि गांव के छह हैंडपंपों की अक्सर मरम्मत तो होती है लेकिन उससे गंदा पानी निकलता है। कई बार तो महीनों तक खराब ही बना रहता है। अभी भी हैंडपंपों की हालत खराब ही बनी है। कई से तो गंदा पानी मिल रहा है। इस संबंध में बीडीओ मानिकपुर सुनील सिंह ने बताया कि हैंडपंपों के खराब होने और उसकी मरम्मत के लिए खर्च की गई धनराशि की जानकारी नहीं है। उनके पास लिखित अभी कोई शिकायत भी नहीं आई है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें