August 2, 2021

(पूरी हकीकत)

नियमों को ताक पर रख सप्लाई कंपनी को दे दिया चिरायु वाहन का ठेका

स्वास्थ्य विभाग में आये दिन हो रहे इस तरह के खेल… नवागढ़ में कागज पर कोविड सेंटर बनाकर कलेक्टर तक कि करा चुके हैं छीछालेदर…

न्यूज़ सर्च@जांजगीर-चाम्पा। स्वास्थ्य विभाग जांजगीर चाम्पा में आये दिन नए नए कांड हो रहे हैं। यहां कभी कागजों पर कोविड सेंटर बनाकर जिला प्रशासन तक की छीछालेदर करा दी जाती है तो चहेते डॉक्टर को एक साथ कई मलाईदार पद का प्रभार सौंपा जाता है। अब इस विभाग के CMHO और DPM ने मिलकर चिरायु योजना के तहत वाहन किराया लेने के लिए नियमों को ताक पर रखकर निकाली गई निविदा जारी कर कार्यआदेश भी जारी किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा टूर एण्ड ट्रेवल्स की जगह सप्लायर एण्ड सर्विस के नाम से पंजीकृत पुर्म को वाहन उपलब्ध कराने का ठेका दिया गया है। जबकि उक्त पुर्म के कार्य क्षेत्र में टूर एण्ड ट्रेवल्स के काम का उल्लेख नहीं है।  

स्वास्थ्य विभाग को जिला कार्यक्रम प्रबंधन इकाई के अधिकारियों के दौरे के लिए 1 वाहन व विकासखण्डों में चिरायु कार्यक्रम संचालन के लिए 20 वाहनों की आवश्यकता है। सभी वाहनों के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा निर्धारित दर अनुसार ही वाहन किराये पर ली जानी है। यहां उपरोक्त सभी वाहन निविदा के न्यूनतम दर पर नवीन कर प्रणाली जीएसटी अंतर्गत राज्य स्तर पर पंजीकृत निविदाकर्ता का वाहन नियमानुसार किराये पर लिया जाना है। इसके लिए सीएमचओ कार्यालय द्वारा जून माह के पहले सप्ताह में टेण्डर जारी कर अन्य जिलों से भी निविदा मंगाई गई है। इसमें पिछले वर्ष जारी नियमावली में परिवर्तन कर कर दिया गया है।

कार्यक्रम के तहत वर्ष 2021-22 में चेहतों को लाभान्वित करने के उद्देश्य से इसकी संख्या कम करते हुए 3 वाहनों की अनिवार्यता निर्धारित की गई है, ताकि आसानी से उन्हें लाभ पहुंचाया जा सके। चिरायु कार्यक्रम के तहत अधिकारियों के निरीक्षण व कार्यक्रम के संचालन के लिए जारी टेण्डर में हर वर्ष ठेकेदार का एक पंजीकृत कार्यालय जांजगीर में स्थापित करने की अनिवार्यता निर्धारित की जा रही थी, ताकि आवश्यकता पड़ने पर उससे कभी भी संपर्क कर आपातकालीन सेवाएं ली जा सके, मगर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा नियमों को ताक पर रखकर ही टेण्डर जारी कर दिया गया।

वित्तीय वर्ष 2021 में जारी टेण्डर में निविदाकर्ता फर्म की एक शाखा प्रदेश में स्थापित किए जाने की शर्ते निर्धारित कर निविदा बुलाई गई थी। ऐसे में दूसरे जिले में स्थापित फर्म के कार्यालय का चक्कर लगाने की भी मजबूरी आवश्यकता पड़ने पर होगी। इस बार जिस पुर्म को काम मिला है उसका टूर एण्ड ट्रेवल्स संबंधी काम से दूर-दूर तक नाता नहीं है। फर्म के जीएसटी पंजीयन में ट्रेवेल्स संचालन का उल्लेख नहीं है।

पिछले बार भी हुई थी गड़बड़ी

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा चिरायु कार्यक्रम व अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रमों के क्रियान्वयन के लिए नए नियमों के अनुसार टेण्डर जारी किया गया है। विभाग द्वारा जारी विज्ञापन में अधोहस्ताक्षकर्ता कार्यालय में एनएचएम शाखा में 13 जुलाई 2020 तक 1 हजार रूपये नॉन रिफंडेबल बैंक ड्राफ्ट के माध्यम से फ़ार्म की खरीदी करने की शर्ते निर्धारित की गई थी, इस दौरान लगभग 11 लोगों ने फ़ार्म की खरीदी की थी। हालांकि विभागीय अधिकारी के अनुसार केवल 2 फ़ार्म आने की जानकारी दी, जबकि इनमें से 2 ठेकेदारों द्वारा टेण्डर छिपाने का आरोप लगाते हुए हंगामा भी कर किया गया था।

गड़बड़ी के बाद निरस्त किया गया था टेण्डर

चिरायु योजना के तहत जिला कार्यक्रम प्रबंधन इकाई के अधिकारियों के दौरे के लिए 1 वाहन व विकासखण्डों में चिरायु कार्यक्रम संचालन के लिए 20 वाहनों की आवश्यकता के अनुसार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा निर्धारित दर अनुसार ही वाहन किराये पर लेने के लिए पिछले बार भी विभाग द्वारा टेण्डर जारी किया गया था, मगर मापदण्ड में खरे नहीं पाए जाने पर पांच बार टेण्डर निरस्त कर पुनः आमंत्रित किया गया है। इस बार भी टेण्डर स्वीकृत करने में नियमों की अनदेखी की गई है।

कलेक्टर से लगाई न्याय की गुहार

यज्ञ कुमार राठौर टूर एंड ट्रेवल्स के संचालक यज्ञ कुमार उर्फ जानू ने इसकी शिकायत कलेक्टर जांजगीर से करते हुए इस निविदा को निरस्त कर दोबारा निविदा बुलाने की मांग की है। उसने शिकायत में बताया है कि मेसर्स नीतिन शर्मा सप्लायर एण्ड सर्विस का जीएसटी पंजीयन में ट्रेवल्स कार्य का कोई उल्लेख नहीं है। इसी तरह उक्त फ़र्म का सक्षम अधिकारी आरटीओ का लाइसेंस भी नहीं है। फ़र्म के नाम से इस जिले में तीन वाहन होना चाहिए, मगर इसकी जांच और सत्यापन करना भी अधिकारियों ने मुनासीब नहीं समझा।

समिति के सदस्यों ने पास किया है टेंडर

”चिरायु योजना के तहत विज्ञापन जारी कर टेंडर मंगाया गया था। नियम व शर्तों के अनुसार टेंडर दिया गया है। इसके लिए समिति भी बनी थी। समिति के सदस्यों ने जांच, पड़ताल के बाद निविदा स्वीकृत की है।

विभा टोप्पो, डीपीएम, राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन, जांजगीर चाम्पा

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें