June 24, 2021

(पूरी हकीकत)

खुशखबर : अब 12 साल से कम उम्र के बच्चों को भी लगेगा कोरोना का टीका, शुरू हुआ ट्रायल

फाइजर ने 12 साल से कम उम्र के बच्चों पर कोरोना वैक्सीन का शुरू किया क्लिनिकल ट्रायल… अमेरिका और यूरोपीय संघ के देशों में पहले से ही 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को लगाई जा रही वैक्सीन

न्यूज सर्च डेस्क, नई दिल्ली – जल्द ही भारत में 12 साल से कम उम्र के बच्चों को कोरोना का टीका लगने लगेगा। इसके लिए न सिर्फ एम्स में ट्रायल किया जा रहा है, बल्कि कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने वाली अमेरिकी कंपनी फाइजर ने भी अपने टीके का ट्रायल 12 साल के कम उम्र के बच्चों पर भी शुरू कर दिया है। फाइजर ने दुनिया के चार देशों में 4,500 से अधिक बच्चों का चुनाव किया है। जिन देशों में बच्चों पर फाइजर की वैक्सीन का ट्रायल होना है उनमें अमेरिका, फिनलैंड, पोलैंड और स्पेन शामिल हैं। यह वैक्सीनेशन शुरू हो जाने से कोरोना की तीसरी लहर पर भी आसानी से काबू पाया जा सकेगा।

12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को पहले ही लगाई जा रही वैक्सीन

फाइजर की कोविड वैक्सीन को पहले ही अमेरिका और यूरोपीय संघ में 12 साल के अधिक उम्र की बच्चों को लगाने के लिए मंजूरी दी जा चुकी है। हालांकि, यह मंजूरी आपातकालीन उपयोग के लिए ही दी गई है। फाइजर ने कोरोना की यह वैक्सीन अपने जर्मन पार्टनर बायोएनटेक के साथ मिलकर बनाई थी। इसी कंपनी की वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सबसे पहले अपनी मंजूरी दी थी।

कई अन्य कंपनियां भी कर रही हैं टेस्ट

फाइजर के अलावा मॉडर्ना भी 12-17 साल के बच्चों पर वैक्सीन टेस्ट कर रही है और जल्द ही उसके नतीजे भी सामने आ सकते हैं। खास बात यह है कि एफडीए ने दोनों कंपनियों के अब तक के नतीजों पर भरोसा जताते हुए 11 साल तक के बच्चों पर भी वैक्सीन टेस्ट करने की इजाजत दे दी है। पिछले महीने एस्ट्राजेनेका ने 6 से 17 साल तक के बच्चों पर ब्रिटेन में अध्ययन शुरू किया है। वहीं, जॉनसन एंड जॉनसन भी अध्ययन कर रहा है। वहीं चीन की सिनोवैक ने तीन साल तक के बच्चों पर भी अपनी वैक्सीन को असरदार बताया है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें