June 25, 2021

(पूरी हकीकत)

कोरोना काल में मरीजों को लूटने वाले 10 अस्पतालों के लाइसेंस निरस्त… 9 के खिलाफ FIR दर्ज

न्यूज़ सर्च डेस्क, लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में जहां कुछ डॉक्टर के तो मानवता के साथ सही इलाज किया, लेकिन कई अस्पताल ऐसे भी हैं जहां के डॉक्टर पूरी तरह से अमानवीय हो चुके हैं। इन्हें मरीज के रूप में सिर्फ और सिर्फ कमाई दिख रही है। ऐसे अस्पताल में इलाज के लिए जाने वाले मरीजों को सिर्फ लूटने का काम किया गया। अब इस तरह की गड़बडिय़ां करने वाले अस्पतालों पर कार्रवाई शुरू हो गई है। सरकार ने ऐसे 10 अस्पतालों का लाइसेंस निरस्त कर दिया है और नौ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है। इतना ही नहीं इन मामलों को लेकर संबंधित जिलों के कलेक्टर व सीएमओ से जवाब तलब किया जाएगा।

आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में निजी अस्पतालों पर मनमानी रेट मरीजों से वसूलने, इलाज में लापरवाही बरतने, दुव्र्यवहार करने, ऑक्सीजन की कृत्रिम कमी बताने व अन्य अनियमितताओं के आरोप लगे हैं। अब तक 33 जिलों से इस तरह की 184 शिकायतें आईं हैं। इनकी जांच में 68 शिकायतें सही पाई गईं। इस आधार पर 117 मामलों में नोटिस दी गई। जांच के बाद कार्रवाई शुरू हो गई है। कई मामलों में मरीजों से वसूला गया ज्यादा पैसा वापस कराया गया तो कई जगह लाइसेंस निरस्त किया गया। जिन अस्पतालों के खिलाफ शिकायत की गई है उसमें आगरा, बाराबंकी, मथुरा, हाथरस, मेरठ, गाजियाबाद, बुलंदशहर, गौतबुद्धनगर,मुजफ्फरनगर,बागपत, हापुड़,सहारनपुर,शामली, कानपुर नगर, कानपुर देहात, इटावा, औरैया, लखनऊ, खीरी,वाराणसी,आजमगढ़, जौनपुर, मऊ, भदोही, गोरखपुर, बस्ती, बहराइच, बरेली, शाहजहांपुर,मुरादाबाद, संभल, प्रयागराज व रामपुर शामिल है।

ज्यादा वसूली के कुछ मामले में आगरा के एक अस्पताल को कोविड अस्पताल से डिबार किया गया। उससे 80 हजार रुपये मरीज को वापस कराए गए। आगरा के कई अस्पतालों को मरीजो से ज्यादा वसूली गई फीस लौटानी पड़ी। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के निर्देश हैं कि मरीजों से ओवरचार्ज करने वाले अस्पतालों पर सख्त कार्रवाई की जाए। इसीलिए विभिन्न जिलों से आई शिकायतों पर पहले नोटिस देकर जवाब मांगा गया। इस पर जांच कराई गई। कई के खिलाफ एफआईआर करा कर सख्त कार्रवाई की जा रही है। यह अभियान आगे भी जारी रहेगा।

इन अस्पतालों के खिलाफ हुई एफआईआर दर्ज

जिन अस्पतालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है उसमें आस्था अस्पताल बस्ती, शिवा अस्पताल बस्ती, बिल्लाह हॉस्पिटल बुलंशहर, कृष्ण सुपर स्पेशलिटी, फैमली अस्पताल, तुलसी अस्पताल व फाच्र्यून कानपुर, आस्था अस्पताल बाराबंकी, दिव्यांशु अस्पताल जौनपुर शामिल हैं।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें