March 7, 2021

(पूरी हकीकत)

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए की विभागीय कार्यों की समीक्षा

ग्रामीण अर्थव्यवस्था की मजबूती पर जोर, सुपोषण, व्यक्तिमूलक और आजीविका संवर्धन के कार्यों को बढ़ावा देने के निर्देश

न्यूज़ सर्च@रायपुर:- पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से वरिष्ठ अधिकारियों और सभी जिलों के जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों के साथ विभागीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में उन्होंने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने वाली गतिविधियों को प्राथमिकता से संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने मनरेगा के तहत व्यक्तिमूलक और आजीविका संवर्धन के कार्यों पर जोर देने कहा। उन्होंने अन्य विभागों की योजनाओं के साथ अभिसरण में इन दोनों गतिविधियों के साथ ही सुपोषण को भी शामिल करने के निर्देश दिए। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी और सचिव टीसी महावर भी वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में मौजूद थे।

सिंहदेव ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने सभी योजनाओं के संचालन में पर्याप्त सावधानी बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने इस संबंध में सरकार द्वारा जारी सभी दिशा-निर्देशों और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित करने कहा। उन्होंने मनरेगा के तहत ऐसे कार्यों को शुरू करने कहा जिनमें कम संख्या में श्रमिकों की जरूरत हो। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री ने सभी ग्राम पंचायतों में खाद्यान्न की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि गांवों में ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए कि कोविड-19 के चलते लॉक-डाउन की स्थिति में किसी भी परिवार को तकलीफ उठाना न पड़े।
 सिंहदेव ने वर्तमान परिस्थितियों में मास्क और सेनिटाइजर की कमी को पूरा करने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित स्वसहायता समूहों की महिलाओं द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में बताया गया कि इन महिलाओं ने अब तक साढ़े पांच लाख मास्क और 604 लीटर सेनिटाइजर का उत्पादन किया है। इनके बनाए मास्क और सेनिटाइजर का उपयोग ग्राम पंचायतों, जनपद पंचायतों, नगर निगमों, स्वास्थ्य और पुलिस विभाग द्वारा किया जा रहा है। स्थानीय बाजारों में भी इनकी आपूर्ति की जा रही है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें