May 18, 2021

(पूरी हकीकत)

भूपेश सरकार के कोरोना जांच के 75 हजार रैपिड किट निरस्त, दोबारा प्रक्रिया पूरी करने में लगेंगे 10 दिन

रायपुर – छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के अब तक 31 मामले सामने आ चुके हैं जिसमें से 10 मरीजों को रायपुर एम्स में उपचार के बाद डिचार्ज किया जा चुका है। कोरोना पॉजिटिव 21 मरीजों को अब भी एम्स में चिकित्सकों की निगरानी में रखा गया है।

इस बीच कोरोना संक्रमण की जांच के लिए राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा 75 हजार रैपिड किट की खरीदी के लिए जारी की ​गई निविदा को तकनीकी कारणों से निरस्त कर दिया गया है। निविदा निरस्त करने के पीछे ​निविदाकार द्वारा 75 हजार रैपिड किट सप्लाई करने से मना करने को बताया जा रहा है।

कि इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) से रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट को स्वीकृति मिलते ही सरकार ने 75,000 रैपिड किट की खरीदी को मंजूरी निविदा जारी की थी, टेंडर की तमाम कागजी प्रक्रिया दो दिनों में पूरी करते हुए छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेस कॉर्पोरेशन (सीजीएमएससी) ने शार्ट टर्म निविदा जारी भी कर दी। महज कुछ ही दिनों में इस किट की सप्लाई भी होनी थी। मगर निविदाकार द्वारा सप्लाई पूरी करने में हाथ खड़े कर देने से पूरा मामला लटक गया है।

दोबारा प्रक्रिया पूरी करने में लगेंगे 10 दिन

बता दें कि कोरोना संक्रमण की जांच के लिए रैपिड किट की खरीदी के लिए दोबारा टेंडर की तमाम कागजी प्रक्रिया में 10 दिन का वक्त लग सकता है। इसके लिए 10 लोगों की कमेटी बनाई गई है। फिलहाल आगामी 10 दिनों तक छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की रैपिड जांच के लिए छत्तीसगढ़ के लोगों को इंतजार करना पड़ेगा।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें