June 22, 2021

(पूरी हकीकत)

कोरोना ने 22 दिन में एक ही परिवार के 5 लोगों की ली जान… परिजन अभी भी नहीं गंभीर

न्यूज़ सर्च@गोंडा :-
उत्तर प्रदेश में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी लोगों की लापरवाही कम नहीं हो रही है। इससे लोगों की जाने भी जा रही हैं। यहां गोंडा के चकरौत गांव में कोरोना ने एक ही परिवार के 5 लोगों की जान ले ली इसके बाद भी मृतक के परिजन इसे कोरोना से मौत होना न मानकर लापरवाही बरत रहे हैं।

अप्रैल का महीना चकरौत गांव निवासी अंजनी श्रीवास्तव के परिवार पर कहर बनकर टूटा। सिर्फ 5 दिन में ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत हो गई। एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत से गांव में दहशत का माहौल है, लेकिन श्रीवास्तव परिवार के लोग नहीं मान रहे कि इस परिवार में किसी को कोरोना हुआ था। कुछ लोगों ने एंटीजन टेस्ट कराया जो निगेटिव आया तो परिवार का कहना है कि ये प्राकृतिक मौत है। हालांकि, उनमें सारे लक्षण कोरोना के ही थे।

अंजनी के मुताबिक, उनके बड़े भाई हनुमान प्रसाद का निधन 2 अप्रैल को हुआ। वो 56 साल के थे और हार्ट पेशेंट थे। बेटे की मौत को हनुमान की 75 वर्षीय मां माधुरी देवी बर्दाश्त नहीं कर पाई और 14 अप्रैल को उनकी मौत हो गई। दादी के निधन पर इलाहाबाद में पढ़ाई कर रहा जॉन्डिस से पीड़ित 21 वर्षीय सौरभ जब घर आया तो इसकी भी तबीयत बिगड़ गयी और गोंडा के एक नर्सिंग होम में 15-16 अप्रैल को सौरभ की भी मौत हो गयी

अंजनी का कहना है कि बेटे की मौत के बाद सौरभ के मां-बाप की भी तबीयत बिगड़ गई। उन्हें गोंडा के एक नर्सिंग होम में एडमिट करवाया गया। दोनों ऑक्सीजन पर थे। बुखार से पीड़ित सौरभ की 41 वर्षीय मां उषा श्रीवास्तव ने 22 अप्रैल और 45 वर्षीय सौरभ के पिता अश्वनी श्रीवास्तव का निधन 24 अप्रैल को हो गया। इस पूरे मामले की जानकारी गोंडा सांसद के फेसबुक पोस्ट से हुई।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें