May 6, 2021

(पूरी हकीकत)

सिम्स में ऑक्सीजन के लिए तड़पता रहा युवक

न्यूज सर्च@बिलासपुर :-

छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान (सिम्स) बिलासपुर में चिकित्सा सेवाओं का हाल सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। यहां इलाज की उम्मीद लेकर पहुंच रहे मरीजों को बिना इलाज के ही वापस कर दिया जा रहा है। फिर मरीज इलाज के अभाव में मर ही क्यों न जाए। इसका जीता जागता उदाहरण दो दिन पहले देखने को मिला। यहां इलाज के अभाव में एक महिला ने तड़क-तड़प कर सिम्स में ही दम तोड़ दिया। इतना ही नहीं मंगलवार को ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे युवक को सिम्स से बिना इलाज के ही वापस कर दिया गया। डॉक्टरों ने अस्पताल में बेड नहीं होने का बहाना बनाकर उसे बैरंग वापस कर दिया।

जानकारी के अनुसार मंगलवार को हरदी से आगे महरोड़ी गांव निवासी 27 वर्षीय युवक रसीद कुमार को उसके पिता सापत कुमार इलाज के लिए सिम्स लेकर पहुंचे थे। रसीद को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। करीब 1 घंटे तक रसीद को उसके पिता ऑटो में लेकर सिम्स परिसर में बैठे रहे लेकिन कोई डॉक्टर इलाज के लिए नहीं आया। जैसे-तैसे रसीद अपने पिता के साथ सिम्स के अंदर पहुंचा तो उसे यह कहकर वापस कर दिया गया कि न तो अभी कोई बेड खाली है न ही ऑक्सीजन की कोई व्यवस्था है। सिम्स के बाहर ऑक्सीजन नहीं मिलने के कारण व्हीलचेयर पर ही युवक तड़पता रहा, लेकिन उसकी किसी ने सुध नहीं ली।

मुझे नहीं पता

मुझे इस बारे में कुछ जानकारी नहीं है। हमारे पास बेड हैं नहीं तो हम कहां से दें। इससे ज्यादा कुछ नहीं कह सकती।

-डा. आरती पांंडेय, पीआरओ, सिम्स

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें