May 16, 2021

(पूरी हकीकत)

भारत पहुंची रूसी वैक्सीन स्पुतनिक की पहली खेप, 150000 डोज मिलने से कोरोना से जंग अब और होगी तेज

न्यूज़ सर्च@नई दिल्ली :- रूस की स्पुतनिक वैक्सीन की पहली खेप शिनवार को भारत पहुंच गई। स्पुतनिक वैक्सीन की 1.5 लाख डोज भारत आने से तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में तेजी देखने को मिलेगी।

आपको बता दें कि भारत में 18 से 44 साल के लोगों का कोविड वैक्सीनेशन तीसरे चरण के तहत 1 मई शनिवार से शुरू हो रहा है। तीसरे चरण के लिए इतने लोगों ने पंजीयन करवाया की वैक्सीन की कमी भी होने की आशंका खड़ी हो गई है, लेकिन पहले चरण में रूस से डेढ़ से दो लाख स्पुतनिक वैक्सीन आने से यह आशंका दूर हो गई है। इसके बाद मई के अंत तक स्पुतनिक-वी की 30 लाख डोज और भारत आ जाएगी। कई विशेषज्ञों ने उम्मीद भी जताया है कि इस वैक्सीन के आने के बाद तीसरे चरण के टीकाकरण अभियान में तेजी आएगी साथ ही भारत को कोरोना महामारी की दूसरी लहर से बाहर निकलने में मदद मिल सकती है।

हाल ही में केंद्र सरकार ने रूसी कोविड वैक्‍सीन स्‍पुतनिक-वी के आपात इस्‍तेमाल को मंजूरी दी है। ऐसा माना जा रहा है कि स्पुतनिक-वी वैक्सीन के भारत आने से कोरोना के खिलाफ जंग में भारत को काफी मदद मिलेगी। बता दें कि भारत अभी कोरोना संक्रमण के खिलाफ दो टीके कोविशील्ड और कोवैक्सिन के साथ लड़ाई लड़ रहा है। कोविड-19 के रूसी टीके ‘स्पूतनिक-वी के तीसरे चरण के परीक्षण में यह 91.6 प्रतिशत प्रभावी साबित हुई है और कोई दुष्प्रभाव भी नजर नहीं आया। ‘द लांसेट’ जर्नल में प्रकाशित आंकड़ों के अंतरिम विश्लेषण में यह दावा किया गया है। अध्ययन के ये नतीजे करीब 20,000 प्रतिभागियों से एकत्र किए गए आंकड़ों के विश्लेषण पर आधारित हैं।

स्पूतनिक अन्य वैक्सीन से है अलग

स्पूतनिक-वी रूसी कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-वी, एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की तरह ही एक वायरल वेक्टर वैक्सीन है। मगर किसी भी अन्य कोरोना वैक्सीन के विपरीत, स्पूतनिक-वी वैक्सीन की दोनों खुराक एक दूसरे से अलग होती हैं। स्पूतनिक वी की दोनों खुराकों में अलग-अलग वैक्टरों का उपयोग SARS-CoV-2 के स्पाइक प्रोटीन को टारगेट करने के लिए किया गया है। बता दें कि कि सार्स-कोव-2 ही कोरोना वायरस का कारण बनता है। वैक्सीन की प्रकृति में भी स्पूतनिक वी की दो खुराक एक ही टीका के थोड़े अलग संस्करण हैं और इसका उद्देश्य कोरोना के खिलाफ लंबी सुरक्षा प्रदान करना है।

75-100 रुपए में होगी उपलब्ध

इसकी कीमत को लेकर अभी को आधिकारिक घोषणा नहीं कि गई है, लेकिन कहा जा रहा है कि भारत में स्पूतनिक v के एक डोज के लिए अधिकतम 10 डॉलर (करीब 750 रुपए) खर्च करने होंगे। भारत में जो दो वैक्सीन है, उसे केंद्र सरकार 250 रुपए में खरीदती है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें