March 5, 2021

(पूरी हकीकत)

ग्राम पंचायत सचिवों को नियमित शासकीय सेवक घोषित करे सरकार – सचिव संघ

• सचिव क्यों सरकारी कर्मचारी नहीं है,फिर काम क्यों नियमित कर्मचारियों की तरह 

•• प्रदेश के पंचायत सचिवों ने कहा – वादा निभाओ सरकार 

•• वेतनमान बढ़ोतरी और नियमितीकरण की मांग को लेकर खोलेंगे मोर्चा
   
रायपुर – प्रदेश के हजारों ग्राम पंचायतों में लॉकडाउन में भी नियमित सेवायें देने के बाद भी सरकार ग्राम पंचायत सचिवों को 50 लाख बीमा और अन्य सुविधाओं की श्रेणी में नहीं रखा है,जबकि जमीनी सच्चाई है कि सचिव ग्राम पंचायत के माध्यम से ही दूभर और विषम परिस्थियों में कार्य संपादित किये जा रहे हैं | आज कोरोना के भययुक्त माहौल में भी गांव,गरीब और हर इंसान के सुख दुख में प्रहरी की तरह तैनात है | शासन प्रशासन को इस बात को समझना ही चाहिये और विचार करना चाहिये,जबकि सरकारों की वोट बैंक की राजनीति में शिक्षा कर्मी भारी पड़ रहे जिससे उनकी सुविधायें बेहतर कर रही सरकार | सरकारों को जमीनी सच को स्वीकारना ही होगा जिससे मतभेद की चिन्गारी मनभेद तक ना जा पहुंचे | जिससे नाराज पंचायत सचिवों ने सरकार से मांग की है कि सरकार उनको सरकारी कर्मचारी का दर्जा देते हुए नियमित करने का आदेश शीघ्र जारी करे | वेतनमान बढ़ोतरी व नियमितीकरण की मांग को लेकर हल्ला बोलने की तैयारी में ग्राम पंचायत सचिव संघ लॉकडाउन के बाद प्रदेश भर से सैकड़ों पंचायत सचिवों ने वादा निभाओ रैली में ताकत दिखायेंगे | प्रदेश पंचायत सचिव संघ के प्रदेश उप कोषाध्यक्ष लकेश यादव ने कहा कि सचिव लॉकडाउन में भी कार्य करते हुए कई सचिव साथी कई दुर्घटनाओं के शिकार हो रहे हैं,कोरोना की चपेट में भी आने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है,छत्तीसगढ़ में सचिव साथियों में कोरोना के संदिग्ध केश मिलने की संभावनायें मीडिया पर चल रही हैं | जब जमीनी स्तर पर काम करने का होता है तो सरकार,नेता और प्रशासन को सचिव की भूमिका याद रहती है | फिर उसके शासकीय करण और वेतनमान की बात आती है तो उसको यहां वहां भटका कर लॉलीपाप पकड़ा दिया जाता है,सरकार चाहे जिसकी भी रही है, सभी ने सचिवों के साथ छल किया है | सचिव के उपर हमले हो रहे,सचिवों को रात दिन हर शासकीय योजनाओं को अमली जामा पहनाने के लिये ड्यूटी लगाया और हर सचिव पूरी निष्ठा के साथ कार्य करता है |  पंचायत सचिवों के हक और अधिकार के लिए एकजुट होकर लड़ाई लड़ने के लिए हुंकार भरते हुए,उन्होेने कहा कि सबसे पहले शासकीय करण कर दीजिये सरकार | दो वर्ष परीक्षा अवधि पश्चात सचिवों को 5200 से 20200 रूपये वेतनमान व 2400 रूपये ग्रेड पे की मांग पूरी करना,साथ ही सरकारी सेवक किया जाने के साथ साथ विभागीय रिक्त पदों पर शत प्रतिशत पदोन्नति एवं त्रिस्तरीय क्रमोन्नति की स्वीकृति,पूर्णकालीन पेंशन की स्वीकृति की मांग पूरी किया जाना चाहिए | इस दौरान सचिव  संघ के बस्तर संभागाध्यक्ष श्री अनीष गुप्ता के सड़क दुर्घटना  पर कहा कि सचिव काम के दबाव में रहता है जिससे इस प्रकार की घटनायें सचिवों के साथ आम हो रही हैं,वैसे ही सूरजपुर के जजावल मे सचिव पंचम सिंह के कोरोना पाजिटिव पाए जाने की सूचना समाचार के माध्यम से प्राप्त हुई है।सरगुजा जिले मे ही लाक डाऊन के दौरान एक सचिव साथी के तनाव के कारण मौत की खबर भी समाचार पत्रों मे प्रकाशित हो चुकी है। सरकार स्वास्थ्य विभाग को 50 लाख और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं को 30 लाख का बीमा राशि दिए जाने की घोषणा कर चुकी है।जबकि इस महामारी मे सबसे अहम भूमिका निभाने वाले सचिवों की कोई पूछ परख नहीं है। फिर भी सचिव रात दिन काम कर रहा है | हमारी मांग है कि सरकार सचिवों को शासकीय नियमित कर्मचारी घोषित करने का आदेश जारी करे।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें