April 17, 2021

(पूरी हकीकत)

समूह को ऋण मिलने से स्वरोजगार की ओर मजबूती से हो रहे अग्रसर

एनआरएलएम के समूहों को बैंक से लिंकेज कराकर मिल रहा आर्थिक सहयोग

जांजगीर-चांपा। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान  के अंतर्गत जिले में चल रहे समूहों को बैंक से लिंकेज कराते हुए ऋण प्रदान किया जा रहा है, जिससे समूह अपनी गतिविधियों को आसानी से चला पा रहे हैं। मशरूम उत्पादन, मछली पालन, सब्जी उत्पादन, फिनाइल, साबुन, बांस की सजावट सामग्री, राखी निर्माण जैसी गतिविधियों के संचालन से महिलाओं के लिए स्वरोजगार मिल रहा है और आर्थिक रूप से मजबूत बन रही हैं। मुख्य कार्यपालन अधिकारी तीर्थराज अग्रवाल ने बताया कि महिलाओं को आर्थिक रूप से मदद मिले इसके लिए उन्हें एनआरएलएम से जोड़कर बैंक के माध्यम से ऋण उपलब्ध कराया जाता है। इससे वे गांव में ही रहते हुए आजीविका प्राप्त कर रही हैं। बैंक के माध्मय से जो ऋण मिलता है, उस पर उन्हें कम ब्याज देना पड़ता है, जिससे समूह को अपने कारोबार को बढ़ाने में दिक्कत नहीं होती है। योजना में बैंकों की अहम भूमिका है। योजना से एसबीआई, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा,  इंडियन ओवरसीस बैंक, छग राज्य ग्रामीण बैंक, केनरा बैंक, यूनियन बैंक आदि के माध्यम से महिला समूह ऋण प्राप्त कर रहे हैं। एनआरएलएम शाखा प्रभारी श्री आकाश सिंह ने बताया कि समूहों को सस्ती ब्याज दरों पर बैंक से लोन मुहैया कराया जा रहा है। जिले में योजना के माध्यम से बैंक से लिंकेज कराकर दिया जा रहा है। पीएनबी सक्ती के ब्रांच मैनेजर  विनय गुप्ता द्वारा जय मां संतोषी को मशरूम के लिए 1 लाख रूपए का ऋण प्रदान किया गया। वहीं लक्ष्मी समूह को मछली पालन कार्य की गतिविधि संचालन के लिए 2 लाख रूपए का वितरण किया गया। बैंक आफ बड़ौदा सक्ती ब्रांच मैनेजर नारायण सिंह पूर्ति द्वारा 2.5 लाख रूपए का चेक श्री महिला समूह की अध्यक्ष मंजूलता को प्रदान किया। इसी तरह नारी शक्ति समूह को 2 लाख रूपए समूह की गतिविधि संचालन के लिए दिए गए। इंडियन ओवरसीस बैंक ब्रांच मैनेजर निखिल ब्योहार द्वारा हरिओम समूह को 4 लाख, प्रगति समूह को 3 लाख, भवानी समूह को 1 लाख जय मां वैष्णव को 3 लाख कुल 11 लाख का वितरण किया गया। छग राज्य ग्रामीण बैंक तिलई ब्रांच मैनेजर भागवत प्रसाद राठौर द्वारा 4 लाख रूपए का ऋण गुरूवाइन दाई समूह, तुलसी समूह को वितरित किया। छग राज्य ग्रामीण अकलतरा बैंक ब्रांच मैनेजर कनक चटर्जी द्वारा 4 लाख समूहों को वितरित किए गए। यूनियन बैंक कोटमीसोनार ब्रांच मैनेजर अनुपम सोलंकी द्वारा 1 लाख समूह को वितरित किए गए।

ऋण वापसी के लिए समिति
समूहों को बैंक के माध्यम से ऋण उपलब्ध कराने के बाद एक नियमित समय पर ऋण की वापसी समूहों के द्वारा की जाती है, लेकिन अगर कोई समूह समय पर ऋण की वापसी नहीं करता है तो उसके लिए समुदाय आधारित ऋण वापसी के लिए कमेटी बनी होती है जो समूहों से ऋण वापसी की कार्यवाही करती है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें