March 4, 2021

(पूरी हकीकत)

गरीबों के चावल की खुलेआम कालाबाजारी, नेता से लेकर पुलिस तक की सेटिंग का दावा

न्यूज़ सर्च ने मामले का खुलासा करने किया स्टिंग, तस्कर की चौकाने वाली बातें हुईं रिकार्ड

न्यूज़ सर्च@भिलाई. भले ही राज्य शासन बजट न होने का हवाला देकर कई योजनाओं ब्रेक लगा रही हो, लेकिन वह गरीबों पर इतनी मेहरबान है कि उससे गरीब का भला हो न हो सेठ साहूकारों की तिजोरी जरूर भर रही है। ऐसा ही कुछ हाल गरीबों को सस्ते दर पर चावल दिए जाने वाली योजना का हो रहा है। इस चावल को सरकारी भाषा में पीडीएस यान की पब्लिक डिस्ट्रिब्यूशन सिस्टम (सार्वजनिक वितरण प्रणाली) का चावल कहा जाता है। यूं तो यह चावल केवल सरकारी राशन दुकानों में ही मिलता है, लेकिन इसकी कालाबाजारी पूरे राज्य में हो रही है। दुर्ग जिला इसमें शायद सबसे आगे है। यहां दर्जनों की संख्या में दलाल इस काम में लगे हुए हैं। यहां तक की शहर के अंदर उन्होंने गोडाउन तक बनाया हुआ है। इस खेल में नेता से लेकर पुलिस तक की सेटिंग का दावा किया जा रहा है। इसका खुलासा करने के लिए जब न्यूज़ सर्च की टीम ने पीडीएस चावल विक्रेता बनकर गेडॉन बंधुओं से बात की तो उन्होंने यह तक दावा कर डाला की उनकी पुलिस से लेकर नेताओं तक की सेटिंग है। आप बताओ चावल कहां से लोड कराना है वह दिन में गाड़ी लगाकर चावल लोड करा देंगे। उनके इस दावे से एक पल के लिए सच में ऐसा लगा कि क्या पीडीएस चावल की कालाबाजारी के इस खेल में इतना फायदा है कि उनकी काली कमाई के सामने नेता से लेकर पुलिस तक अपनी आंखें बद कर ले रही है। आप खुद पढ़िए कि आखिर न्यूज़ सर्च टीम की चावल तस्कर गगन गेडॉन और रमेश गेडान से क्या बात हुई।
चावल तस्कर से बातचीत
न्यूज़ सर्च- गेडाम जी…
गेडाम- हां कौन…
न्यूज़ सर्च- मैं बैकुंठधाम से मुकेश साहू बोल रहा हूं।
गेडाम– कौन साहू…
न्यूज़ सर्च– मेरे पास 20 क्विंटल चावल ही पीडीएस का…
गेडाम– जो भी है आप आमने-सामने आकर बात कीजिए।
न्यूज़ सर्च– मेरे पास गाड़ी है मैं उसमें लेकर आ जाऊं आपके पास।
गेडाम– मैं आपका नंबर देता हूं वो 10 मिनट में आपसे बात करेगा।
दूसरी बातचीत
गेडाम– हां भइया आप चावल के लिए बोल रहे थे क्या।
न्यूज़ सर्च– हां मैं शारदा पारा से बोल रहा हूं… मेरे पास 20 क्विंटल चावल है… क्या रेट लेंगे बता दीजिए।
गेडाम– 17 रुपए चल रहा है।
न्यूज़ सर्च– चावल लेकर मुझे आना पड़ेगा या आप लोड करने आ जाओगे।
गेडाम– मैं आ जाऊंगा आप पता बता दो कहां से लोड करना है।
न्यूज़ सर्च– अच्छा मैं एड्रेस दे रहा हूं, लेकिन कहीं कांग्रेसी नेता और पुलिस तो नहीं आ जाएगी। मैं बहुत डर रहा हूं।
गेडाम– आप एड्रेस दो चिंता मत करो कोई कुछ नहीं करेगा।
न्यूज़ सर्च– भइया देखों पकड़ गए तो लफड़ा होगा… टीआई काफी तेज है यहां का…

गेडाम– कुछ नहीं होगा हमारी सबसे सेटिंग है… मैं लोड करवा लूंगा।

बचाओ में आया एनएसयूआई कार्यकर्ता, फिर कहा जेल भेजों सभी को

जब न्यूज़ सर्च की पहचान बताकर गेडाम बंधुओं से बात की गई तो वह हड़बड़ा गए। देखते ही देखते एनएसयूआई के कार्यकर्ता का फोन आने लगा। उसने पहले तो रुपए की मांग और गाली देने का आरोप लगाकर खबर न छापने का दबाव बनाया, लेकिन जब उससे चावल तस्कर का साथ देने के संबंध में पूछा गया तो वह पलट गया और कहा की ऐसे लोगों को जेल भेजना चाहिए। ये लोग एनएसयूआई को बदनाम करते हैं। पुलिस और खाद्य विभाग को भी इस पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।

वर्जन-

मुझे इसकी जानकारी नहीं है। यदि ऐसा है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

– प्रशांत ठाकुर, एसपी दुर्ग

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें