May 18, 2021

(पूरी हकीकत)

पामगढ़ क्षेत्र में संचालित हो रहा अवैध पैथोलाजी लैब, जिम्मेदार को कार्रवाई की फुर्सत नहीं

मां प्रज्ञा पैथोलाजी लैब नाम के फर्जी पैथोलाजी लैब संचालित

सेंट्रल काउंसिल ऑफ ह्यूमन राइट ने सीएमएचओ से की शिकायत

जांजगीर-पामगढ़ :- क्षेत्र में बिना अनुमति के पैथोलाजी लैब संचालित हो रहा है। बिना डॉक्टर व डिग्री के खुले ऐसे लैब से गलत रिपोर्ट मिलने से किसी की भी जान जा सकती है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों को इसकी कार्रवाई के लिए फुर्सत नहीं है। इसकी शिकायत सेंट्रल काउंसिल ऑफ ह्यूमन राइट के कार्यकारिणी रवि गढ़वाल ने सीएमएचओ से की है।
सीएमएचओ को सौपे ज्ञापन में सेंट्रल काउंसिल ऑफ ह्यूमन राइट के जिला कार्यकारी अध्यक्ष रवि गढ़वाल ने बताया कि पामगढ़ में संचालित मां प्रज्ञा पैथोलाजी लैब पूरी तरह से फर्जी है। उसके पास किसी तरह का कोई अनुमति व रिकार्ड भी नहीं है। इसकी शिकायत मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी व खण्ड चिकित्सा अधिकारी पामगढ़ से किया गया है। विगत दो-तीन वर्षों से मां प्रज्ञा पैथोलाजी लैब के नाम पर फर्जी पैथोलाजी लैब संचालित की जा रही है। अपने शिकायत में लिखा है कि मां प्रज्ञा पैथोलॉजी लैब पामगढ़ के लैब के सामने लगा होर्डिग बोर्ड में लैब का पंजीयन क्रमांक नहीं होने के कारण लैब के संचालक से लैब के संबंध में पूछताछ किया गया। जहां लैब संचालक लैब पंजीयन संबंधी कोई साक्ष्य या प्रमाण नहीं दिखा सका। क्षेत्र में अवैध तरीके से चल रहे पैथोलेब को लेकर जहां स्वास्थ्य विभाग का अमला कार्रवाई के नाम पर निष्क्रिय नजर आ रही है। वहीं गांव-गांव की गलियों में लगातार लैबो के संचालन बढ़ते जा रहा है। एक ओर सस्ते में रिपोर्ट देने के नाम पर ये पैथोलेब संचालक बिना किसी पर्ची या चिकित्सक की सलाह से रिपोर्ट तैयार कर दे रहें है तो वहीं इनकी गुणवत्ता व मापदण्ड तथा परीक्षण में उपयोग होने वाली केमिकल की गुणवत्ता का कैसे निर्धारण होता होगा यह समझ से परे है। इन पर विभागीय कार्रवाई महज दिखावा ही रहता है। सीएमएचओ को सौपे ज्ञापन में सेंट्रल काउंसिल ऑफ ह्यूमन राइट के जिला कार्यकारी अध्यक्ष रवि गढ़वाल ऐसे फर्जी तरह से संचालित लैब के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उचित कार्रवाई कर लैब को बंद करने की मांग की है। ताकी गलत परीक्षण से लोगों की जान बचाया जा सके।
बिना डॉक्टर व मान्यता के तैयार कर रहा खून, पेशाब का रिपोर्ट
शिकायत में बताया कि लैब संचालक बिना डॉक्टर व बिना मान्यता एवं पंजीकरण के खून पेशाब, वीर्य, हार्मोन्सए कल्चर, मलेरिया, टाइफाइड शुगर, पीलिया, सिकलिंन, थायराईड, प्रेग्नेंसी तथा सभी प्रकार के बीमारियों का जांच कर आस-पास के ग्रामीणों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहा रहा है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें