April 13, 2021

(पूरी हकीकत)

पंचायत चुनाव में सबकी नजरें रैपुरा पर, सालों को बादशाहत छोड़ नए चेहरे की तलाश

मतदाताओं के नए विकल्प चुनने की बात से घबराए दावेदारी करते आ रहे दोनों दिग्गज घराने

न्यूज़ सर्च@चित्रकूट :- उत्तर प्रदेश में इस समय पंचायत चुनाव अपने पूरे सबाब में है। इसमें DDC, BDC को छोड़कर ग्रामपंचायत चुनाव पर अधिक जोर आजमाइश चल रही है। सबसे अधिक लोकप्रिय ग्राम पंचायत रैपुरा है। यहां इस बार दो प्रमुख पटेल घरानों के बीच चुनाव न होकर बदलाव का चुनाव लड़ा जा रहा है। यहां के मतदाताओं ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि वो इस बार नए विकासवादी सोच से भरे हुए चेहरे को जीत का हार पहनाएंगे। इससे दोनों दिग्गज घरानों के दावेदारों की नींद उड़ गई है।

आपको बता दें कि चित्रकूट जिला अंतर्गत आने वाली रायपुरा ग्रामपंचायत ऐसी ग्रामपंचायत है जिसकी धमक लखनऊ तक रहती है। इस बार इस सामान्य सीट पर पटेल दावेदारों के साथ ही ब्राह्मण और अन्य जाति के दावेदार भी सामने आ रहे हैं। इन दावेदारों में दो प्रमुख चेहरे उभर कर सामने आ रहे हैं। इसमे एक दावेदार तो जिले की राजनीति छोड़कर गांव के विकास को मुद्दा बनाकर चुनाव लड़ रहा है और उसने यह भी कहा है कि ये उसका पहला और आखिरी ग्रामपंचायत का चुनाव है। इस प्रत्याशी ने तो बाकायदा चुनावी वादों की घोषणा तक कर दी है।

दूसरे दावेदार की बात करें तो वो पहले भी चुनाव मैदान पर उतर चुका है और उसने दोनों दिग्गज दावेदारों को दांतों चने चबाने को मजबूर कर दिया था। भले इस दावेदार को पिछले चुनाव में नजदीकी हार मिली थी, लेकिन लोगों का कहना था कि उसकी हार भी किसी जीत से कम नहीं है। इस बार भी इस दावेदार की दावेदारी सबको पटखनी देने को तैयार है। यह दावेदार भी गांव के विकास को ही मुद्दा बनाकर चुनाव लड़ रहा है। उसका कहना है कि वो यदि प्रधान बनाता है तो गांव में इतना विकास कर देगा कि अगली बार जब भी सामान्य सीट होगी तो गांव की जनता उसे ही चुनेंगी।
अन्य दावेदार भी किसी से कम नहीं हैं और अपना प्रचार प्रसार तेज किए हुए हैं। अब यह तो जनता ही तय करेगी कि वो जीत का सेहरा किसके सर रखेगी।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें