February 24, 2021

(पूरी हकीकत)

जल्दबाजी ऐसी की गर्भवती महिलाओं को कर दिया सभी के साथ क्वारंटीन

पामगढ़ क्षेत्र में लगातार बरती जा रही लापरवाही, कहीं हॉटस्पाट न बन जाये ब्लॉक
न्यूज़ सर्च@देवेंद्र यादव:- कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए जहां एक तरफ शासन-प्रशासन पूरी तन्मयता से लगा हुआ है, अपना सर्वस्व निछावर करने के लिए तैयार है। इस सबके बीच पामगढ़ में अधिकारियों की लापरवाही चर्चा का विषय बनी हुई है। यहां बाहर से आए मजदूरों को रनटाइम करने की व्यवस्था तो की गई है, लेकिन लापरवाही यह दिखी की  गर्भवती महिलाओं को कामन लोगों के साथ ही क्वारंटीन कर दिया गया। बाद में जब इस गलती का एहसास अधिकारियों को हुआ तो आनन-फानन में व्यवस्था को बदला गया। अब सवाल यह उठता है कि इस गलती से अगर संक्रमण फैला तो गर्भवती महिला के साथ-साथ उनके पेट में पल रहे नवजात बच्चे को भी रोना के संक्रमण का खतरा हो सकता है।
गौरतलब है कि पामगढ़ के आईटीआई में दो गर्भवती महिला को रखा गया है। प्रियंका पति गोवधन उम्र 25 वर्ष ग्राम सिल्ली के रहने वाली है। ये झारखंड से आयी है। दूसरी सुनीता महिपाल पति रविशंकर महिपाल  उम्र 19 वर्ष ग्राम डोंगकोहरौद के रहने वाली है। ये इलाहाबाद से आयी है। इन दोनों महिलाओं का प्रसव समय भी नजदीक है। उसके बाद भी दोनों गर्भवती महिलाओं को सभी के बीच मे रखा गया हैं।
बाहर से आ रहे मजदूरों को रखने के लिए पामगढ़ क्षेत्र में 92 सेंटर बनाए गए हैं। इनमें से ज्यादातर घनी आबादी के बीच हैं। इन लोगों की क्वारंटीन अवधी पूरी होने के बाद घर भेजना है, लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों के कार्य पर उठ रहे है। सवाल क्वारंटीन सेंटर जेवरा पामगढ़ में एक दिन रखने के बाद ऐसा क्या हुआ कि  बाहर से आये ग्रामीणों को भदरा और भीलोनी के लोगो को घर मे होम क्वारंटीन करने को कहा जा रहा हैं। भदरा निवासी विजय यादव पिता चैतराम ग्राम भदरा, शिवा पिता विजय यादव भदरा, नरेन्द्र पिता चैतराम यादव भदरा, रागनी पति विजय यादव भदरा निवासी को एक दिन जेवरा के क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था एक दिन बाद ऐसा क्या हुवा की अचानक सभी भदरा निवासी को अचानक गांव में होम क्वारंटाइन किया गया समझ से परे हो गया है।

विजय यादव से जब बात किया तो विजय ने बताया कि जेवरा में किसी अधिकारिय का फोन आया था  उसके बात हम लोगो को पामगढ़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लेजाया गया जहाँ से हम सभी को घर छोड़ दिया गया था। रात को वार्ड के पंच के द्वारा सरपंच को सूचना दिया गया जिसके बाद उसे भदरा गांव के ही स्कूल में उसे रखा गया है। जेवरा के क्वारंटीन सेंटर में पता किया गया तो पता चला कि अनुविभागीय अधिकारियों के आदेश पर उसे जेवरा से भेजा गया हैं। बाहर से परिजनों के द्वारा लगातार खिड़की से मजदूर से बात करने से शाम होते ही पामगढ़ के आईटीआई भवन में मजदूरों के लिए किसी ने 2 दिन पहले शराब पहुँचा दिया था जिसके बाद आईटीआई भवन पामगढ़ में हंगामा हो गया था।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें