April 19, 2021

(पूरी हकीकत)

ऑनलाइन गेम से जुएं की लत ने किशोर को पहुंचाया मौत के मुंह में… जब नहीं चुका पाया कर्ज तो दोस्त ने काट दिया गला

न्यूज सर्च रायगढ़ डेस्क- वर्तमान में भले ही सरकार जुआ सट्टा पर रोक लगाने कानूनी कार्रवाई कर रही हो, लेकिन ऑनलाइन गेम के जरिए बड़ी-बड़ी रकम युवा गंवा रहे हैं। हालत यह है कि अब अधिक रकम हार जाने की वजह से युवा खुदकुशी करने तक लग गए हैं। ऐसी ही एक दिल दहला देने वाली खबर रायगढ़ जिले से आ रही है। यहां एक 17 साल का नाबालिग पिछले एक साल से पढ़ाई-लिखाई की बजाय ऑनलाइन गेम फ्री फायर खेल रहा था। पिता जम्मू-कश्मीर में काम करते हैं और मां को मोबाइल के बारे में उतनी जानकारी नहीं। सभी को लगता रहा कि बच्चा ऑनलाइन पढ़ाई कर रहा है, क्योंकि पिछले साल स्कूल के सत्र ऑनलाइन लगे। इधर, बच्चा गेम में इतना डूब गया कि कर्ज लेने लगा। 75 हजार रुपए कर्ज नहीं चुकाने पर कर्जदाता ने नाबालिग को शराब पिलाई और गले पर ब्लेड चलाकर मार डाला। पुलिस ने हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया है।

घटना कोसीर थाना क्षेत्र की है। 10 मार्च को दोपहर लक्षेंद्र खूंटे पिता जनकराम घर से बिना बताए निकला था। वह 17 साल का था। वह 25 साल के उसके पड़ोसी चवन खूंटे के साथ निकला था। लक्षेंद्र के मोबाइल से चवन खूंटे के मोबाइल पर एक मैसेज आया कि लक्षेंद्र का अपहरण हो गया है और पांच लाख देने पर उसे छोड़ेंगे। पुलिस को यह बात बताई गई। पुलिस ने जब सारे सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो आखिरी बार लक्षेंद्र चवन के साथ ही दिखा। इससे पुलिस का शक चवन पर गया। पुलिस ने जोर डाला तो चवन ने सच कबूल कर लिया कि उसी ने लक्षेंद्र की हत्या कर दी थी और हत्या के बाद लाश छिपा दी थी। चवन बताया कि लक्षेंद्र को गेम खेलने की बुरी लत लग गई थी। वह दिनभर गेम खेलता रहता था। इसके लिए पिछले एक साल से वह पैसे ले रहा था। रकम करीब 75 हजार रुपए की हो गई थी और जब भी उससे पैसा मांगता, टाल देता। 10 मार्च को दोनों ने जमकर शराब पी। शराब के नशे में ही उसने पैसे की मांग की। लक्षेंद्र ने पैसे देने से इंकार किया तो चवन ने गुस्से में आकर ब्लेड से उसका गला काट डाला। उसी समय उसकी मौत हो गई।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें