April 17, 2021

(पूरी हकीकत)

कोरोना के डर से नेता अफसरों ने नहीं की विदेश यात्रा… सरकार के खजाने से बचे 100 करोड़

न्यूज सर्च डेस्क-
शासन प्रशासन पर बैठे बड़े नौकरशाह और नेता मंत्री विदेश यात्रा कर किस तरह सरकारी खजाने से धन उड़ाते थे इसका बड़ा खुलासा कोरोना काल में हुआ। काेराेना की वजह से पिछले साल मंत्री-अफसरों की देश-विदेश यात्राएं और तबादले नहीं होने की वजह से सरकारी खजाने को 100 करोड़ से ज्यादा की बचत हुई है। यह आंकड़ा केवल छत्तीसगढ़ राज्य का है अगर यह पूरे देश का देखा जाए तो बड़े बड़े लोगों को चौंका सकता है।

गौरतब है कि पिछले साल 2020 मार्च महीने में छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर में कोरोना का पहला केस सामने आया। इसके बाद राज्य सरकार ने एक-एक कर कई कड़े फैसले लिए। इसके अंतर्गत देश-विदेश यात्राओं पर रोक लगाई गई। फिजिकल की जगह वर्चुअल यानि ऑनलाइन बैठकें होने लगीं। पिछले साल एनआईसी के माध्यम से 2237 वर्चुअल बैठकें हुई हैं। इसमें कैबिनेट से लेकर मंत्रियों द्वारा विभाग की, मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ केंद्र सरकार के अफसरों के साथ बैठकें शामिल हैं। पहले इन बैठकों में शामिल होने के लिए राज्य के अफसर हावाई यात्रा करके दिल्ली जाया करते थे। इसमें बड़ी राशि खर्च करनी पड़ती थी। कोरोना की वजह से कई देशों के साथ राज्यों ने विकास की योजनाओं के संबंध में कांफ्रेंस और स्टडी टूर रद्द कर दिए। इनमें मंत्रियों और अफसरों को बुलाया जाता था। सामान्य प्रशासन व वित्त विभाग से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक सालभर में छत्तीसगढ़ से सभी मंत्री और अफसर एक से दो देशों की यात्राएं करते रहे हैं। इसका पूरा खर्च सरकारी खजाने से होता रहा है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें