April 23, 2021

(पूरी हकीकत)

विश्व श्रवण दिवस पर शिविर का आयोजन, 54 ने आधुनिक मशीनों से कराई जांच

सिम्स प्रबंधन द्वारा आयोजित किया गया सात दिवसीय परामर्श शिविर

बिलासपुर, 3 मार्च 2021, राज्य शासन के निर्देश पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग और सिम्स प्रबंधन द्वारा तीन से 10 मार्च तक नि:शुल्क कान जांच एवं परामर्श शिविर का आयोजन किया जा रहा है। राष्ट्रीय बधिरता नियंत्रण एवं रोकथाम कार्यक्रम के तहत विश्व कर्ण देखभाल दिवस के मौके पर कर्ण देखभाल जागरूकता अभियान पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है।

शिविर में सिम्स मेडिकल कॉलेज बिलासपुर की जनसंपर्क अधिकारी व ईएनटी विभाग की एचओडी डॉ. आरती पाण्डेय ने बताया ‘’विश्व श्रवण दिवस के मौके पर शहरी स्वास्थ्य केंद्र सिम्स कॉलेज में 3 से 10 मार्च तक नि:शुल्क कान जांच एवं परामर्श शिविर आयोजित किया जा रहा है। शिविर के पहले दिन बुधवार को राज्य शासन एवं परिवार स्वास्थ्य एवं कल्याण विभाग छत्तीसगढ़ के निर्देशानुसार सिम्स मेडिकल कॉलेज के नाक कान गला रोग विभाग में सिम्स की डीन डॉक्टर तृप्ति नगरिया, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. पुनीत भारद्वाज एवं नाक, कान व गला रोग विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. आरती पांडे के निर्देशन मे निशुल्क कानों कीजांच एवं कर्ण रोग के बचाव एवं नियंत्रण संबंधी परीक्षण एवं सलाह ओपीडी में दी गई। इस ओपीडी में में कुल 54 रोगियों की आधुनिक श्रवण जांच मशीनों से एवं सुसज्जित नवीन ऑडियोमेट्रिक कक्ष में श्रवण दोष का परीक्षण कर बधिरता से पीड़ित रोगियों का उपचार जांच किया गया।इस दौरान कर्ण एवं बधिर रोगियों का पुनर्वास कर उनको समाज की मुख्यधारा से जुड़ने की सलाह दी गई।‘’

शिविर में 10 तक की जाएगी जांच

विश्व श्रवण दिवस पर 10 मार्च तक शहरी स्वास्थ्य केंद्र में निशुल्क शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान जिन लोगों को कान से संबंधित कोई समस्या हो वह यहां पहुंचकर अपनी जांच करा सकते हैं और निशुल्क दवाइयां भी प्राप्त कर सकते हैं। कई बार लोग कान की बीमारी हल्के में लेकर घरेलू उपचार का सहारा लेते हैं, ऐसे में वह बहरेपन का शिकार हो जाते हैं, इसलिए ऐसा न करके विशेषज्ञों से अपनी समस्या का निदान कराएं।
इस कार्यक्रम को सफल बनाने में नाक कान गला रोग विभाग से डॉक्टर बीआर सिंह, डॉक्टर विद्याभूषण साहू , डॉक्टर श्वेता मित्तल, डॉक्टर प्रतीक अग्रवाल एवं ऑडियोलॉजिस्ट डा. मोहन मुरली सोनी सहित समस्त विभाग का रहाहनीय योगदान रहा।

कोविड नियमों का पालन करने की दी गई सलाह

ओपीडी के दौरान जांच कराने पहुंचे लोगों को कोरोना से बचाव के लिए मास्क लगाने सहित शारीरिक दूरी बनाने और सेनेटाइजर का उपयोग करने की सलाह दी गई। इतना ही नहीं उनको यह भी बताया गया कि अभी कोरोना पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ है। टीकाकरण की प्रक्रिया क्रमवार जारी है। उनके घरों में जिन बुजुर्गों को कोविड का टीका लग गया है वह यहन समझे कि वह कोरोना संक्रमण से बच गए हैं, बल्कि वह भी कोरोना नियमों को पहले की तरह ही पालन करें। डॉक्टरों की सलाह पर लोगों ने भी उन्हें कोरोना नियमों का पालन करने और घर से मास्क लगाकर ही बाहर निकलने का वादा किया।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें