April 18, 2021

(पूरी हकीकत)

बिलासपुर आईजी दफ्तर में जांजगीर-चांपा जिले के ग्रामीण ने पिया जहर, हालत गंभीर

मालखरौदा पुलिस पर लगाए लेनदेन व केस दर्ज न करने के आरोप, जांजगीर पुलिस का दावा गिरफ्तारी से बचने के लिए ग्रामीण ने पिया कीटनासक

न्यूज सर्च,जांजगीर-चांपा- बिलासपुर स्थित आईजी ऑफिस में बुधवार को उस समय अफरा तफरी का माहौल निर्मित हो गया, जब जांजगीर जिले से आए एक ग्रामीण ने जहर पी लिया। इसके बाद उसे गंभीर हालत में सिम्स में भर्ती कराया गया जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

जानकारी के मुताबिक जांजगीर चांपा जिले के मालखरौदा थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम छोटे रबेली निवासी छतराम काठले पिता पलटन 33 वर्ष दोपहर में अपने छोटे भाई लोकनाथ के साथ बिलासपुर आईजी आफिस पहुंचा। उस समय आईजी रतनलाल डांगी बाहर थे। इसके बाद छतराम वहां एएसपी दीपमाला कश्यप के पास गया और अपने गांव के सरपंच द्वारिका प्रसाद व मालखरौदा पुलिस के खिलाफ लिखित में शिकायत दिया। साथ ही मौखिक रूप से बताया कि उसके गांव के सरपंच ने उसके साथ मारपीट की थी। उसकी पत्नी के साथ भी उसने दुर्व्यवहार किया पर जब वह शिकायत लेकर मालखरौदा थाने गया तो पुलिस ने उसकी एफआईआर दर्ज नहीं की। उससे पैसे की मांग की गई। पैसा नहीं देने पर सरपंच ने अपनी पहुंच का फायदा उठाकर उल्टा उसके खिलाफ ही लूट व मारपीट की धाराओं के तहत जुर्म दर्ज करा दिया है। इसके बाद वह जेब से कीटनाशक की शीशी निकाल कर वहीं पर पी लिया। मौजूद पुलिस अधिकारी-कर्मचरियों ने देखा तो हड़कंप मच गया।

एएसपी सिटी उमेश कश्यप ने जब पता किया तो जानकारी मिली की छतराम के खिलाफ जांजगीर चांपा जिले के मालखरौदा थाने में लूट व मारपीट का मामला दर्ज है। उसका बयान दर्ज कर लिया गया है। इस संबंध में जांजगीर-चांपा जिले एएसपी सिटी महादेवा ने कहा उसकी शिकायत की जांच की गई। उसने जिन गवाहों के नाम बताए थे उनका बयान लिया गया पर वे मुकर गए। एएसपी के अनुसार छतराम के खिलाफ जिले के विभिन्न थानों में करीब 10 केस दर्ज हैं। गिरफ्तारी से बचने के लिए ऐसा किया है।

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें