February 25, 2021

(पूरी हकीकत)

मेकाहारा के रेडियोलॉजी विभाग ने सिपाही ने की तोड़फोड़, विभागाध्यक्ष को दी मारने की धमकी

जूनियर पीजी डॉक्टर से की मारपीट, सभी पीजी स्टूडेंट्स में भारी रोष, थाने में की गई शिकायत

न्यूज सर्च@रायपुर. मेडिकल कॉलेज रायपुर के आम्बेडकर अस्पताल में अराजक तत्वों से मरीजों व डॉक्टरों की सुरक्षा करने वाला पुलिस का जवान ही भक्षक बन गया। उसने न सिर्फ तोड़फोड़ कर जूनियर पीजी डॉक्टर से मारपीट की बल्कि रेडियोलॉजी विभाग के एचओडी डॉ. एसबीएस नेताम के चैंबर में घुसकर उनको मारने तक की धमकी दे डाली। घटना के बाद सिपाही को चैंबर से बाहर तो कर दिया गया, लेकिन उसके बाद पूरे मेडिकल कॉलेज स्टॉफ और जूनियर डॉक्टर्स में भारी रोष व्याप्त है।

जानकारी के मुताबिक जेल प्रहरी शत्रुघ्न राव दंतेवाड़ा से एक बीमार कैदी को जांच कराने मेकाहारा के रेडियोलॉजी विभाग में गया था। उसे 22 फरवरी की डेट दी गई थी। सिपाही तय तिथि पर सोमवार को पहुंचा, लेकिन भीड़ अधिक होने की वजह से उसे घंटो इंतजार करना पड़ा। इससे जेल प्रहरी भड़क गया और वर्दी की धौंस दिखाते हुए उसने जूनियर डॉक्टर से कहा कि वह समय बताए उसी समय वह जांच के लिए आएगा। जूनियर डॉक्टर ने नंबर से जांच होने की बात कही तो उसने उसे दो थप्पड़ जड़ दिए। हंगामा बढ़ने के बाद सिपाही सीधे रेडियोलॉजी विभाग के एचओडी चैंबर में घुस गया वहां उसने कुर्सी पटकी और एचओडी डॉ. नेताम की टेबल भी थपथपाई। इतना ही नहीं सिपाही इतना नडर था कि जब उसने देखा कि एक महिला डॉक्टर उसका वीडियो बना रही है तो उसने अपने चेहरे से मास्क भी हटा दिया और डॉक्टर नेताम को मारने तक की धमकी डे डाली।

वर्जन-
यह काफी निंदनीय घटना है। जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो फिर डॉक्टर और अन्य स्टॉफ किससे मदद की गुहार लगाएगा। हमने मामले की शिकायत संबंधित थाने में करके सिपाही के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।
-डॉ. विष्णु दत्त, डीन, मेडिकल कॉलेज रायपुर

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें