March 1, 2021

(पूरी हकीकत)

मलेरिया मुक्त अभियान में जांजगीर अव्वल, 20 सालों में तय किया 5,303 से 63 केस का सफर
सघन जांच व दवालेपित मच्छरदानी बांट लोगों को किया जागरूक, गांव-गांव में दिख रहा असर

न्यूज़ सर्च जांजगीर चाम्पा

जांजगीर-चांपा, 19 फरवरी 2021,मच्छर काटने से पैदा होने वाली बीमारी मलेरिया आज पूरे राज्य के लिए एक चुनौती बनती जा रही है। लोग इस बीमारी से दूर रहने के लिए और चैन की नींद पाने के लिए मॉसकीटो क्वायल व मच्छरदानी से लेकर अलग-अलग चीजों का उपयोग करते हैं। यह सुविधाएं आज भी गरीबों से दूर हैं, जिससे उन्हें मच्छरों का प्रकोप अधिक रहता है और मलेरिया भी अधिक होता है। मलेरिया से बचाव की लड़ाई में जांजगीर-चांपा जिला ने अनोखा काम करके दिखाया है। यहां स्वास्थ्य विभाग की बेहतर नीति और सही कार्यशैली के चलते पिछले 20 सालों में जांजगीर-चांपा जिले में 5,303 मलेरिया पॉजिटिव केस से लेकर 63 केस तक का सफर तय किया है। हजार से दहाई के आंकड़े में जिले को पहुंचाने वाले स्वास्थ्य कर्मी प्रशंसा के पात्र हैं।
जांजगीर-चांपा जिले के सीएमएचओ एसआर बंजारे ने कहा ‘’जिले में मलेरिया काफी अधिक फैला था, लेकिन जिस तरह सही कार्य से हमने धीरे-धीरे इस पर सफलता पाई है वह काफी अच्छी है। उन्होंने बताया कि साल 2000 में जिले में मलेरिया पॉजिटिव की संख्या 5,303 थी। यह संख्या घटकर 2020 में 63 पहुंच गई है। उन्होंने बताया, हमने मलेरिया पॉजिटिव केस का पता लगाने और उसका उपचार करने के लिए लगातार जांच जारी रखी। कैंप लगाकर और घर-घर जाकर भी मलेरिया के केस खोजे गए। इतना ही नहीं जिले में सबसे अधिक मलेरिया के केस सक्ती और बम्हनीडीह ब्लॉक में मिलते हैं। इसके लिए हमने पूरे जिले में अलग-अलग क्षेत्रों में दवालेपित मच्छरदानी भी बांटी। इन्ही कार्यों का नतीजा है कि आज जिले में मलेरिया के केस इतने कम हो पाए हैं।‘’
किस साल कितने रहे केस

अगस्त से सितंबर 2020 तक इतनी मच्छरदानीयों का हुआ वितरण
अकलतरा बलौदा बम्हनीडीह डभरा जैजैपुर मालखरौदा नवागढ़ पामगढ़ सक्ती कुल
3166 3580 7383 3139 5408 6316 12200 3161 6927 51280

You cannot copy content of this page

en_USEnglish
Open chat
विज्ञापन के लिए इस नंबर पर संपर्क करें